MP FOUNDATION DAY

0
2253
views

1 नवंबर 1956 को निर्मित ह्रदय प्रदेश मध्य प्रदेश के स्थापना दिवस [MP FOUNDATION DAY ] पर खास लेख| जिसमें हम जानेंगे मध्य प्रदेश से जुड़े हुए तथ्यों को जीव विज्ञान के दृष्टिकोण से| इस लेख में हम जीव विज्ञान से जुडी मप्र से संबंधित बातों पर ही चर्चारत होंगे –

मध्य प्रदेश के अन्य नाम-

हृदय प्रदेश
सोया राज्य
टाइगर स्टेट
नदियों का मायका

एक नजर में मध्य प्रदेश-

  • मध्य प्रदेश का गठन- 1 नवंबर 1956
  • मध्य प्रदेश का नामकरण – पंडित जवाहरलाल नेहरू
  • क्षेत्रफल-3, 08, 252 वर्ग किलोमीटर
  • जनसंख्या-7.26 करोड़
  • राजकीय खेल – मलखंब
  • विधानसभा सीटें-230 और एक एंग्लो – इंडियन
  • लोकसभा सीटें-29
  • संभाग -10
  • जिले – 52

State Symbol (मध्यप्रदेश के प्रतीक चिन्ह)

  • राज्य पशु – बारासिंघा (Rucervus duvaucelii)
  • राजकीय वृक्ष – बरगद ( Ficus bengalensis)
  • राजकीय पक्षी- दूधराज (Terpsiphone paradisi)
  • राजकीय मछली- महाशीर (Tor tor )
  • राजकीय पुष्प- सफेद लिली (Lilium candidum)
  • राज्य फसल – सोयाबीन

Tiger State M.P. (” टाइगर स्टेट” मध्य प्रदेश)

बाघों की जनगणना 2018 की रिपोर्ट के अनुसार मध्य प्रदेश एक बार पुनः टाइगर स्टेट बन गया है | वर्तमान में मध्यप्रदेश 526 बाघों के साथ देश में पहले स्थान पर है जिसमें देश के 22% बाघ पाए जाते हैं जबकि कर्नाटक 524 टाइगर के साथ दूसरे स्थान पर और उत्तराखंड 442 टाइगर के साथ तीसरे स्थान पर है | बाघों के लिए सबसे सुरक्षित स्थान मध्यप्रदेश है | प्रदेश में 11 राष्ट्रीय उद्यान और 25 से अधिक राष्ट्रीय अभ्यारण हैं जिनमें से 6 राष्ट्रीय उद्यान प्रोजेक्ट टाइगर से जुड़े हुए है | प्रोजेक्ट टाइगर से जुड़े हुए राष्ट्रीय उद्यानों में कान्हा टाइगर रिजर्व, बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व, पेंच टाइगर रिजर्व, पन्ना टाइगर रिजर्व, सतपुड़ा टाइगर रिजर्व तथा संजय दुबरी टाइगर रिजर्व शामिल है | मध्यप्रदेश का सबसे बड़ा राष्ट्रीय उद्यान कान्हा राष्ट्रीय उद्यान है | जिसका क्षेत्रफल 940 वर्ग किलोमीटर है, वही सबसे छोटा नेशनल उद्यान जीवाश्म राष्ट्रीय उद्यान डिंडोरी है | जिसका क्षेत्रफल मात्र 0.27 वर्ग किलोमीटर है | जीवाश्म राष्ट्रीय उद्यान एशिया का प्रथम तथा विश्व का दूसरा जीवाश्म उद्यान है | कान्हा राष्ट्रीय उद्यान एकमात्र ऐसा राष्ट्रीय उद्यान है जिसे शुभंकर प्रदान किया गया है |

  • सबसे बड़ा राष्ट्रीय उद्यान कान्हा राष्ट्रीय उद्यान मंडला
  • मध्य प्रदेश का सबसे छोटा राष्ट्रीय उद्यान जीवाश्म राष्ट्रीय उद्यान डिंडोरी
  • सर्वाधिक बाघ जनसंख्या घनत्व वाला राष्ट्रीय उद्यान- बांधवगढ़ राष्ट्रीय उद्यान
  • एकमात्र ऐसा राष्ट्रीय उद्यान जिसे शुभंकर प्रदान किया गया है – कान्हा राष्ट्रीय उद्यान
  • वर्ष 1973 में प्रोजेक्ट टाइगर के अंतर्गत घोषित किए गए देश के सर्वप्रथम 9
    टाइगर रिजर्व में कान्हा टाइगर रिजर्व प्रदेश का एकमात्र टाइगर रिजर्व था |
  • मध्यप्रदेश के राष्ट्रीय उद्यानों में सर्वाधिक संख्या में पाए जाने वाला वन्यजीव चीतल है |
  • राज्य का सबसे बड़ा अभ्यारण नौरादेही अभ्यारण सागर है जिसका क्षेत्रफल 1034.52 वर्ग किलोमीटर है |
  • मध्य प्रदेश का सबसे छोटा अभ्यारण रालामंडल इंदौर में है इसका क्षेत्रफल 2.345 वर्ग किलोमीटर है |
  • सरदारपुर और सैलाना अभ्यारण खरमोर पक्षी के लिए प्रसिद्ध है|
  • सोन चिरैया के संरक्षण के लिए करेरा अभ्यारण शिवपुरी व घाटीगांव अभ्यारण ग्वालियर प्रसिद्ध है|
  • मध्यप्रदेश में घड़ियाल संरक्षण के लिए नेशनल चंबल घड़ियाल अभ्यारण मुरैना, सोन घड़ियाल अभ्यारण सीधी और केन घड़ियाल अभ्यारण छतरपुर है |
  • मध्य प्रदेश का रेप्टाइल पार्क – पन्ना
  • मध्य प्रदेश का प्रथम सर्प उद्यान- वन विहार भोपाल
  • वन विहार राष्ट्रीय उद्यान भोपाल ISO 9001 : 2008 अवार्ड पाने वाला देश का पहला राष्ट्रीय उद्यान है |
  • मध्य प्रदेश में देश के सर्वाधिक राष्ट्रीय उद्यान एवं अभयारण्य है |
  • वन्यजीव अपराध नियंत्रण ब्यूरो का क्षेत्रीय कार्यालय जबलपुर में खोला गया है |

Biosphere Reserve of M.P. (मध्य प्रदेश के बायोस्फीयर रिजर्व)

मध्य प्रदेश में कुल 3 बायोस्फीयर रिजर्व हैं जिनमें पचमढ़ी, achanakmar-amarkantak तथा पन्ना है | मई 2009 में पचमढ़ी को यूनेस्को की बायोस्फीयर रिजर्व में शामिल किया गया था | यह मध्य प्रदेश का एकमात्र यूनेस्को में शामिल बायोस्फीयर रिजर्व है |
पचमढ़ी( होशंगाबाद तथा सतपुड़ा उद्यान) के 4926.28 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र को सन 1999 में बायोस्फीयर रिजर्व घोषित किया गया | इसके पश्चात अचानकमार – अमरकंटक ( अनूपपुर, डिंडोरी व छत्तीसगढ़ का बिलासपुर ) मैकाल पहाड़ी स्थित 3835.5 वर्ग किलोमीटर को 2005 में तथा पन्ना रिजर्व क्षेत्र के 2998.98 वर्ग किलोमीटर को 2011 में भारतीय जैव मंडल आरक्षित क्षेत्र घोषित किया गया है|

  • भारत सरकार के पर्यावरण वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के द्वारा मध्य प्रदेश के कान्हा बांधवगढ़ तथा पेंच को जैव आरक्षित क्षेत्र बनाए जाने के प्रस्ताव भेजा गया है |

Biodiversity of M.P. (मध्य प्रदेश की जैव विविधता )

मध्यप्रदेश देश के मध्य भाग में स्थित है और जैव विविधता के दो हॉटस्पॉट पूर्वी हिमालय एवं पश्चिमी घाट को जोड़ने वाला रास्ता मध्य प्रदेश से होकर गुजरता है | इस भौगोलिक स्थिति के कारण प्रदेश जैव विविधता में हिमालय एवं पश्चिमी घाट की जैव विविधता की झलक देखने को मिलती है |

  • राज्य में 4 तरह के प्रमुख जंगल ( साल, सागौन मिश्रित एवं कटीले वन), 10 राष्ट्रीय उद्यान, 25 अभ्यारण के कारण ही इसे टाइगर स्टेट कहलाने का गौरव प्राप्त हुआ है |
  • राज्य में लगभग 5000 तरह के पौधे है, जिनमें से सैकड़ों औषधि युक्त पौधे है |
  • मध्य प्रदेश में लगभग 500 पक्षियों की प्रजातियां पाई जाती है |
  • भारत के प्राणी विज्ञान सर्वेक्षण के अनुसार राज्य में 172 किस्म की मछलियां हैं |
  • नूरजहां आम की विशेष प्रजाति कट्ठीवाड़ा जिला अलीराजपुर में उगाई जाती है इस आम का फल 1 किलोग्राम से 5 किलोग्राम तक होता है |
  • सुंदर जा आम की स्थानी किस में रीवा जिले के गोविंदगढ़ क्षेत्र में पाई जाती है जो अपनी विशिष्ट खुशबू एवं स्वाद के लिए जानी जाती है |
  • बड़वानी का लाल पपीता, बुंदेलखंड के बेर, गुना एवं ग्वालियर क्षेत्र का कुंभराज धनिया भी स्थानीय विशेषताएं युक्त है |
  • कड़कनाथ या काला मासी झाबुआ अलीराजपुर धार जिले में पाई जाने वाली मुर्गी की स्थानीय नस्ल है जो अपने काले रंग एवं औषधि गुणों के लिए जानी जाती है |
  • गाय की स्थानीय किस्मों में मालवी जो उज्जैन, शाजापुर, राजगढ़, निमाड़ी क्षेत्रों में पाई जाती है वहीं पर गोआलो छिंदवाड़ा एवं केनकथा पन्ना जिले में पाई जाने वाली नस्लें है |
  • भदावरी ग्वालियर क्षेत्र में पाई जाने वाली भैंस की किस्म है, जिसके दूध में वसा की सर्वाधिक मात्रा पाई जाती है |
  • जमुनापारी भिण्ड में पाई जाने वाली बकरी की स्थानीय नस्ल है |
  • मालवी मंदसौर ऊंट की स्थानीय नस्ल है |
  • मध्यप्रदेश वन्यजीवों की जैव विविधता के लिए भी जाना जाता है जिसमें गौर मध्य प्रदेश के कान्हा पेंच में पाया जाता है | वहीं पर बारहसिंघा केवल मध्यप्रदेश के कान्हा में ही पाया जाता है |

Soyabeen Pradesh ( “सोयाबीन प्रदेश” मध्य प्रदेश )

मध्य प्रदेश में सोयाबीन खरीफ की एक प्रमुख फसल है जिस की खेती लगभग 53.00 लाख हेक्टेयर क्षेत्रफल में की जाती है | सोयाबीन मध्यप्रदेश की प्रमुख तिलहनी फसल है | भारत के लगभग 60% से भी ज्यादा सोयाबीन का उत्पादन अकेले मध्यप्रदेश में होता है | सर्वाधिक बड़ा उत्पादक राज्य होने के कारण ही इसे “सोया स्टेट” के नाम से भी जाना जाता है |

  • देश का सर्वाधिक सोयाबीन मध्यप्रदेश में उत्पादित होता है |
  • मध्य प्रदेश राज्य में सर्वाधिक सोयाबीन का उत्पादन उज्जैन जिले में किया जाता है |
  • मध्य प्रदेश का सोयाबीन का कारखाना सिवनी मालवा में है |
  • राष्ट्रीय सोयाबीन अनुसंधान केंद्र इंदौर में है |
  • एशिया का सबसे बड़ा सोयाबीन कारखाना उज्जैन में है |

सर्वाधिक वन क्षेत्र वाला राज्य-

भारत वन स्थिति रिपोर्ट 2019 वन एवं पर्यावरण मंत्रालय द्वारा 30 दिसंबर 2019 को जारी की गई इसमें भारत के वन संसाधनों का आकलन किया गया | यह वन रिपोर्ट इस श्रंखला की 16वी रिपोर्ट है | भारतीय वन रिपोर्ट, भारतीय वन सर्वेक्षण संस्थान देहरादून द्वारा प्रत्येक 2 वर्ष पर तैयार की जाती है और यह रिपोर्ट वर्ष 1987 से लगातार प्रकाशित की जा रही है यह रिपोर्ट रिसोर्ससेट-2 उपग्रह के संवेदी आंकड़ों पर आधारित होती है |
देश में सबसे अधिक वनों के क्षेत्रफल वाले राज्य में मध्य प्रदेश 77, 482 वर्ग किलोमीटर वन के साथ प्रथम स्थान पर है | प्रतिशतता के आधार पर यह कुल भौगोलिक क्षेत्रफल का 25.11% है | मध्यप्रदेश में 6563 वर्ग किलोमीटर सघन वन, 34, 571 वर्ग किलोमीटर मध्यम घने वन तथा 36280 वर्ग किलोमीटर में खुले वन हैं |

  • भारत में सर्वाधिक वन पाया जाने वाला प्रदेश मध्य प्रदेश है |
  • वनों का पूर्ण राष्ट्रीयकरण करने वाला देश का प्रथम राज्य मध्यप्रदेश है|
  • सर्वाधिक वन वृक्ष सागौन है | इसके पश्चात साल के वृक्ष आते है |
  • भारतीय वन प्रबंधन संस्थान भोपाल
  • मध्यप्रदेश वन अनुसंधान संस्थान जबलपुर
  • वनों का शत-प्रतिशत राष्ट्रीयकरण करने वाला देश का प्रथम राज्य मध्यप्रदेश है |
  • वनों का राष्ट्रीयकरण वर्ष 1970 में किया गया |
  • मध्यप्रदेश में रेंजर कॉलेज बालाघाट में स्थित है |
  • इंडियन इंस्टीट्यूट आफ फॉरेस्ट मैनेजमेंट भोपाल में स्थित है |
  • सर्वाधिक आरक्षित वन खंडवा वन वृत में है |
  • सर्वाधिक वन क्षेत्र वाला जिला बालाघाट है जबकि सबसे कम वन क्षेत्र वाला जिला शाजापुर है|
  • राज्य के प्रमुख वन संस्थान
    1.भारतीय वन प्रबंधन संस्थान – भोपाल
    2.भारतीय वन अनुसंधान संस्थान – जबलपुर
    3.वन राजिक महाविद्यालय – बालाघाट
    4.वन प्रबंधन शिक्षा केंद्र – बेतूल
    5.संजीवनी संस्थान – भोपाल
    6.फॉरेस्ट गार्ड ट्रेनिंग स्कूल – बैतूल, रीवा, शिवपुरी, अमरकंटक, लखनादौन
    7.प्रादेशिक वन स्कूल – बैतूल, शिवपुरी, अमरकंटक, गोविंदपुर, झाबुआ

मध्य प्रदेश के प्रमुख अनुसंधान केंद्र एवं प्रशिक्षण संस्थान

  • मध्य प्रदेश गेहूं अनुसंधान केंद्र – पवारखेड़ा जबलपुर
  • राष्ट्रीय सोयाबीन अनुसंधान केंद्र इंदौर
  • अंगूर अनुसंधान केंद्र रतलाम
  • मध्य प्रदेश धान अनुसंधान केंद्र बड़वानी
  • फॉरेंसिक साइंस लैबोरेट्री सागर
  • तुलसी शोध संस्थान चित्रकूट सतना
  • कपास अनुसंधान केंद्र खरगोन
  • अंतर्राष्ट्रीय मक्का एवं गेहूं अनुसंधान केंद्र खमरिया जबलपुर
  • केंद्रीय कृषि अभियांत्रिकी संस्थान- भोपाल
  • उष्णकटिबंधीय वन संस्थान – जबलपुर
  • आम अनुसंधान केंद्र गोविंदगढ़, रीवा
  • जीव विज्ञान संस्थान भोजराज, रायसेन
  • गन्ना अनुसंधान केंद्र बोहानी, नरसिंहपुर
  • दलहन अनुसंधान केंद्र, अमलाह

Other Importent Fact of M.P.

( अन्य प्रमुख जानकारियां )

  • मध्य प्रदेश का एकमात्र गांजा उत्पादक जिला- खंडवा
  • प्रदेश का अफीम उत्पादक जिला – मंदसौर
  • राज्य का पहला पर्यावरण न्यायालय – भोपाल
  • प्रदेश की प्रथम डीएनए प्रयोगशाला – सागर
  • प्रदेश का पहला अंगूर अनुसंधान केंद्र – रतलाम
  • प्रदेश की प्रथम झींगा मछली संरक्षण केंद्र बालाघाट जिले में स्थापित की गई |
  • देश में सर्वाधिक जैविक खेती करने वाला राज्य मध्यप्रदेश है |
  • देश की पहली खाद्य एवं औषधि हाइटेक लेब भोपाल मध्य प्रदेश में है |
  • देश का पहला मसाला पार्क छिंदवाड़ा में |
  • भारत का सबसे बड़ा गुलाब उद्यान मेघदूत गार्डन इंदौर में है |
  • देश की एकमात्र चाय अकादमी भोपाल में है |
  • मध्य प्रदेश का लाख उत्पादन में देश में प्रथम स्थान है |

सारांश –

उम्मीद करूंगा कि उपरोक्त दी गई जानकारी आपको पसंद आयी होगी | विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के दृष्टिकोण से काफी महत्वपूर्ण जानकारी है | अपनी प्रतिक्रिया कमेंट बॉक्स में जरूर दें|

Source:-

1.https://mpforest.gov.in
2.https://mpinfo.org

3. www.mpsbb.nic.in

4.भारत वन स्थिति रिपोर्ट 2019

Previous articleBiology Test Paper-Genetics and Evolution
Next articleBiology Test Paper-Diversity of Living Organism
यह website जीव विज्ञान के छात्रों तथा जीव विज्ञान में रुचि रखने को ध्यान में रखकर बनाई गई है इस वेबसाइट पर जीव विज्ञान तथा उससे संबंधित टॉपिक पर लेख, वीडियो, क्विज तथा अन्य उपयोगी जानकारी प्रकाशित की जाएगी जो छात्रों तथा प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहे प्रतियोगियों के लिए महत्वपूर्ण सिद्ध होगी इन्हीं शुभकामनाओं के साथ|
SHARE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here